How to increase platelets count in Hindi - शरीर में प्लेटलेट्स की कमी को कैसे पूरा करें

How to increase platelets count in Hindi - एक सेहतमंद शरीर की निशानी है शरीर में प्लेटलेट्स की सही मात्रा होना एवं उनका सही तरीके से काम करना। लेकिन प्लेटलेट्स की कमी होने का नुकसान आपके शरीर एवं सेहत को भुगतना पड़ता है।

How to increase platelets count in Hindi - शरीर में प्लेटलेट्स की कमी को कैसे पूरा करें

एक सेहतमंद शरीर की निशानी है शरीर में प्लेटलेट्स की सही मात्रा होना एवं उनका सही तरीके से काम करना। लेकिन प्लेटलेट्स की कमी होने का नुकसान आपके शरीर एवं सेहत को भुगतना पड़ता है।  प्लेटलेट्स Small blood cells  है जो आपके शरीर से खून को बहने से रोकती हैं या कहें खून के थक्के को बनने में मदद करती हैं।

एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में 1.5 लाख से 4.5 लाख प्लेटलेट्स होते हैं। प्लेटलेट्स (platelets) की उम्र 3 से 5 दिन  होती हैं। शरीर में हर रोज हजारों प्लेटलेट्स (platelets) के टूटने और निर्माण होने का प्रोसेस नॉरमली चलता रहता है। प्लेटलेट की संख्या 1.5 लाख से कम होने पर उसे प्लेटलेट्स (platelets) की कमी या थ्रोम्बोसाइटोपेनिया कहा जाता हैं।

प्लेटलेट की संख्या 50 हजार से कम होने पर रोगी की जान को खतरा हो सकता हैं और ऐसे में रोगी को प्लेटलेट चढ़ाना (Platelet Transfusion) बेहद जरुरी हो जाता हैं। लेकिन देखने में आया है की यदि आपके प्लेटलेट्स (platelets) 15 हजार भी है तो डॉक्टर प्लेटलेट्स (platelets) चढ़ा कर रोगी को बचा लेते हैं लेकिन यदि इनकी संख्या 50 हज़ार के करीब है तो घबराने की कोई बात नहीं है

1.पपीता: प्लेटलेट्स  (platelets) की संख्या बढ़ाने के लिए पपीते का फल और पत्तों का प्रयोग सफलतापूर्वक किया जा सकता हैं। 2009 में मलेशिया में हुए एक अध्ययन में यह निष्कर्ष निकला है की डेंगू बुखार में ताजे और स्वच्छ पपीते के पत्तों का ताजा रस देने पर प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में सहायता होती हैं। पपीते के पत्ते का रस आप अपनी क्षमतानुसार 10 से 20 ml दिन में 2 से 3 बार ले सकते हैं। अगर इसे पिने से उलटी होती है तो यह नहीं लेना चाहिए। पपीते का फल खाते समय वह पका हुआ होना चाहिए।

2.चुकंदर: चुकंदर में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते है और इसका सेवन करने से हीमोग्लोबिन और प्लेटलेट की मात्रा बढ़ाने में सहायता होती हैं। आप रोगी को इसकी स्वादिष्ट और पाचक सब्जी बनाकर खिला सकते है या फिर इसका 10 ml ताजा जूस रोगी को दिन में 3 बार पिला सकते हैं।

3.कद्दू: विटामिन ए की अच्‍छी मात्रा कद्दू में होती है। इसलिए यह प्‍लेटलेट के विकास में विशेष योगदान देता है। इसके अलावा यह शरीर की Cells द्वारा Produced प्रोटीन को control करता है। शरीर में प्‍लेटलेट की संख्या बढ़ाने के लिए आप कद्दू के ताजा रस के साथ शहद का use कर सकते हैं। अधिकतम लाभ प्राप्‍त करने के लिए दिन में 2-3 गिलास कद्दू के रस का सेवन करें। इसके अलावा आप कद्दू को सलाद, सूप आदि के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

4.किशमिश: स्‍वाद में मीठी होने के साथ ही किशमिश आयरन से भरपूर होती है। यह आपके शरीर में Blood production को उत्तेजित करने में सहायक होती है जो कि समान रूप से प्‍लेटलेट्स का भी production करते हैं। आप इसे कई प्रकार से अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। यह प्‍लेटलेट्स बढ़ाने के साथ ही कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में मदद करती है।

5.गेहूं के पौधे रस (Wheat Grass Juice): एक अध्‍ययन से पता चलता है कि गेंहू के पौधे से निकाला गया रस हमारे शरीर में प्‍लेटलेट्स के स्‍तर को बढ़ा सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि गेहूं के रस में क्लोरोफिल की High Quantity होती है जो हमारे शरीर में हीमोग्‍लोबिन atom की तरह कार्य करता है। आप इस रस की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए थोड़ा नींबू का उपयोग कर सकते हैं। नियमित रूप से दिन में दो कप इस जूस को पीना प्‍लेटलेट्स के लिए फायदेमंद होता है।

6.पानी: हमारे शरीर में पानी का बड़ा महत्त्व है। शरीर में Blood muscle building होने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी होना जरुरी हैं। रोगी व्यक्ति को रोजाना 8 से 10 ग्लास पानी अवश्य पीना चाहिए। डेंगू में शरीर में पानी की कमी होना बहुत बड़ी समस्या होती ह